खूबसूरत दिल के मालिक

क्या करतें हैं लोग उनके साथ,सब जानते है वो
नरम दिल है वो मगर जाहिल नहीं 
बार बार माफ़ कर देंगे तुम्हे सब कुछ जानते हुए 
खूबसूरत दिल के मालिक, हैं बुजदिल नहीं 

वो तो रहते हैं रब की निगहबानी में 
और रब की रज़ा में ख़ुश हैं 
हर लम्हा रब की रहमत बरसती है उनपर 
वो किसी रहम के मोहताज़ नहीं 

वो होते है तक़दीर के बादशाह ज़नाब 
आप के करम के तलबगार नहीं 
सुर्ख रूह लोगों के दम पे टिकी है दुनिया 
सरासर झूठ !कि आप उनके तलबगार नहीं 

Leave a Reply