ठिठोली

मीठी वाणी रखो सदा, कभी न कड़वी बोली 
सेब के पेड़ पर ही सेब लगें,नीम के पेड़ निंबोली  
कड़वा रहे,कड़वे पे तुम चाहे, लगाओ मीठा लेप 
दुर्जन से आशा रखी तो ,होगी ख़ुद ही से ठिठोली 

3 thoughts on “ठिठोली

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s