भँवरे तितलियाँ

भँवरे व तितलियाँ कईं, किस्म किस्म के फूल

रूप बदलता प्यार का, प्यार वफ़ा न उसूल

प्यार वफ़ा न उसूल, बात ये बिलकुल सच्ची

प्यार का है उतार, हो उम्र बड़ी या कच्ची

नहीं प्यार ये मान, न इससे जीवन सँवरे

सदा रहें न साथ, उड़ते तितलियाँ भँवरे

    

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s