राज़

बहुत महंगा पड़ा हमको अजी यहाँ दिल लगाना 
न था मालूम मुश्किल है ये दर्द-ओ-गम को भुलाना 
वो कहते थे जताते थे हमारे हैं कब से वो ज़ालिम 
खुला अचानक राज़ !बैठे हैं लुट गया जैसे खज़ाना   

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s