दर्द





*हर दर्द के पीछे रहा है  कारण कोई ज़रूर*
*यूँ ही नहीं अश्क़ आखों से छलकें मेरे हुज़ूर*
*घुटता रहा चुपचाप दिल ही दिल में तनहा*
*चला ऐसे ही नहीं जाए है उसकी आँख का नूर*
              ✍️सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️

4 thoughts on “दर्द

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s