माता दरबार

प्रदत्त शब्द - माता दरबार 
विधा-मुक्तक 
*देखो माता का दरबार, कितना भव्य और निराला है*   
*जब जिसने सिर झुका लिया, अपना भाग्य ही संवारा है* 
*इस मात-दरबार की शान निराली, और अमिट है महिमा* 
*मैया के चरणों में सदा मिलता, खुशियों का ख़ज़ाना है* 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s