शुभम विवाह

*दिल से दिल का मेल रहे, हो दिल से दिल की राह* 
*कैसे भी मुश्किल हालात ! ....रहे आपस  की चाह*    
*कोई भी तीजा बीच नहीं,..........प्रेम बढ़े जी रोज़*     
*हरदम मिलकर साथ निभाएँ, होता "शुभम विवाह*"
 ️✍️सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s