शोर

ज़रूरी नहीं कोई मारे किसी को और सज़ा पाए 
कभी कभी मर-मर के जीने को भी मज़बूर करता है  
ऐसे जगत में हैं हम साहब, इंसान गलत होता खुद 
मगर  दूसरे की गलतियों पर भरपूर शोर करता है

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s