भेड़चाल

देखा देखी करें बहुत, जगत में भेड़चाल 

गलत सही का फर्क रख, निज विवेक संभाल

निज विवेक संभाल, रीति-रिवाज़ में मत पड़

छोड़ अंधविश्वास , तू डोर ज्ञान की पकड़ 

चाहो स्वस्थ समाज, न ज्ञान तर्क अनदेखी  

चुकता उच्च हिसाब, किसी की देखा देखी

One thought on “भेड़चाल

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s