नज़र

दोस्तों पर ही नहीं, सिर्फ हमारी नज़र 
दुश्मनों की भी रखीं है हमने ख़बर  
खुद को समझे शहंशाह हमें गम नहीं 
सामने खड़ा है जो करे उसकी कदर 
      ✍️सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s