बे-आवाज़

जिनकी आँखों में वहशत और अंगारे हैं 
वो दूजों से कम खुद से ही सदा हारे हैं 
जो दूसरों को डराते हैं धमकियाँ देकर 
रब की बे-आवाज़ लाठी ने ही मारे हैं 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s