ईश्वर-अंश

कोई किसी के जैसा कब बन पाता है 
विविध रंगों से ही ये जगत लुभाता है 
किसी और के जैसा कोई बने भी क्यों 
हर जीव में ईश्वर-अंश जगमगाता है 
          ️✍️सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️ 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s