उपमा

*क्या देगा उपमा तेरी, तुझ जैसा यहाँ नहीं  कोई*
*तू सबके दिल में रहती है..तुझसे ज़ुदा नहीं कोई* 
*मेरी दूरी ज़रूरी है..........तभी तो दूर हूँ सनम मैं * 
*जो तुझको छीन ले मुझसे, है दुनिया में नहीं कोई*    
         ✍️ सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️

One thought on “उपमा

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s