भूलना

*दिल में बसा के प्यार को भूलना नहीं* 
*साँसों में बसते हो कभी भूलना नहीं* 
*वहम है  ज़ेहन से मिटा पाओगे मुझे* 
*लहू बन रगों में बह रही भूलना नहीं* 
           ✍️ सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️ 

One thought on “भूलना

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s