भूलना

आँखों में था ख़ुमार, मगर भूलना पड़ा 
अपनों में था शुमार, मगर भूलना पड़ा 
सैलाबे-अश्क़ आँखों में, यूँ उमड़ पड़ा  
दिल में इश्क़े-गुबार, मगर भूलना पड़ा 
         ✍️ सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s