नज़र

शुक्रिया रब !अब दुनिया को मैं....नज़र आने लगी हूँ 
रोज़ कमियाँ बता किया अहसान.....निखरने लगी हूँ  
आजकल दिखता है, कुछ व्यवहार बदला-बदला सा   
क्या वाक़ई सतत .....मंज़िल की तरफ बढ़ने लगी हूँ 
                            ✍️सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️ 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s