अनछुए

तेरे अनछुए अहसासों की रेशमी छुअन 
कंपकपाँते  लब, डबडबाते  नयन 
मेरे दिल की बात तेरे दिल तक पहुँच गयी 
बिनकहे हो रहा अहसासों का रमन   
दूर क्षितिज ! धरा-गगन मिल रहे हैं, मिलने दो 
फ़क़त अनुपम व् अनूठा है ये मिलन 
        ✍️सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️ 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s