ऊँची उड़ान

अपनी आत्मा से विधान के लिए मत काट-छाँट करिये 
न झुकाइये, न सींचिये, न कभी तर्क से मज़बूर करिये  
भरने दो ऊँची उड़ान उसे खुले आसमान में आज़ाद तुम 
अपने होंसले-जुनून से ख्वाब-ख्वाहिशों का पूरा करिये 
       ✍️ सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️ 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s