निशाँ

 कुचले हुए अरमानो के पंख हो जहाँ 
कैसे जिए कैसे जिए कोई फिर वहाँ  
मंज़िल के लिए लेके चले जो राह में 
ख़्वाबों का मंज़िल पे,न रहा कोई निशाँ 
       ✍️ सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️ 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s