नकार

उसने अगर अब तक का किया नकार दिया 
जब दिया तुझको तो.. काँटों का हार दिया 
सफर में अकेला है तू,.......... दूर है मंज़िल 
मुस्कुरा ! तुझे तेरी ........ख़ुदी से वार दिया   
       ✍️ सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️ 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s