दुनिया

दुनिया भी क्या चीज़ है, हर पल करे मज़ाक 
मतलब निकले तो मिले, झट से गले तपाक
झट से गले तपाक, लब से टपके चाशनी 
लब बोलें तो जान , बात ज्यों मधुर रागिनी 
नित कठोर दे घाव, दिल कठपुतली नचनिया  
बदले सब हर रोज़, कभी बदलती न दुनिया
               ️✍️सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️

दूरी

जब दिल ने दूरी बना ली है  
आप क्यों मेरे करीब आते हैं 
क्या बच गया कोई फ़रेब 
कि आप सब्ज़बाग दिखाते हैं  

आपसे प्यार हमें है माना मगर 
धोखा बार बार नहीं खाते हैं 
ज़ेहन में गहरे बसे हुए हो आप 
क्यों नाज़ायज़ फायदा उठाते हैं 

रुकोगे जब तलक हमें यकीन नहीं 
यकीन आया तो कहोगे कि जाते हैं 
हम तेरे लाख राज़दार वफादार सही  
फिर हमसे ही राज़ क्यों छुपाते हैं 

आप दिखाते हैं हमें प्यार मगर  
ज़ख़्म फिर से हरे हो जाते हैं 
जब दिल ने दूरी बना ली है  
आप क्यों मेरे करीब आते हैं 

शब्द

कुछ कहते हैं कि शब्द कह दिए जाएँ तो जाते हैं मर 
मेरा ख़याल है कि कह दिए जाएँ तो हो जाएँ अमर 
हर शब्द जो निकले मुख से,चुना हुआ दिल से हो  !
ब्रह्माण्ड में हो प्यारे सुंदर शब्दों का खुशनुमा असर 

देशभक्ति का मर्म

देशभक्ति का मर्म तू जान !
संविधान का कर सम्मान 
फिर कह मेरा भारत महान 
सर्वधर्म सद्भाव ,प्रेम विश्वास 
इनसे ही मिलता है समाधान 
संविधान का कर सम्मान 
     फिर कह मेरा भारत महान 
        देशभक्ति का मर्म तू जान !


घटते जाते जीवन मूल्य 
सच्ची देशभक्ति होती अमूल्य 
परिभाषा क्यों बदली इसकी 
झूठा क्यों लगता गुणगान 
 संविधान का कर सम्मान 
     फिर कह मेरा भारत महान 
        देशभक्ति का मर्म तू जान !

  अशिक्षा बेरोज़गारी और इलाज़ 
इनके क्षेत्र में पिछड़ा समाज 
अब महंगाई ने कमर तोड़ दी 
देश बाहर कैसे पाए सम्मान 
संविधान का कर सम्मान 
      फिर कह मेरा भारत महान 
         देशभक्ति का मर्म तू जान !

संविधान और कानूनों में संशोधन 
तो होते ही आये वर्षों से 
फिर क्यों शहीदों किसानों से 
बड़ा हुआ सरकार का मान 
संविधान का कर सम्मान 
     फिर कह मेरा भारत महान 
         देशभक्ति का मर्म तू जान !

हाँ बहुत लोगों की कुर्बानी 
मिली तभी ये देश खड़ा 
मुट्ठी भर स्वार्थी लालची 
लोगों ने किया अपमान 
संविधान का कर सम्मान 
    फिर कह मेरा भारत महान 
         देशभक्ति का मर्म तू जान !


यूँ तो हम अपनी सेनाओं 
पर  अमिट गर्व करते हैं  
गलत नीति कूटनीति की  
भरपाई वो सदा करते हैं 
कहाँ चला जाता है तब 
देश के वीरों का सम्मान 
संविधान का कर सम्मान 
      फिर कह मेरा भारत महान 
         देशभक्ति का मर्म तू जान !

पिता का बिछोह

पिता अस्वस्थ और वृद्ध हों 
एक दिन जाना ही होगा 
हम सभी जानते हैं मगर           
ये विरह कैसे सहेंगे
नहीं जानते हम मगर
जाना पिता का जैसे 
सर से साया हटना 
घने वृक्ष की छाँव का  
दुनिया के मेले में अचानक   
हाथ छूटा खोया सा बच्चा  
दुःख अवसाद असुरक्षा 
भी घेरती कभी कभी 
पिता जो कभी कड़क 
कभी मृदुल अहसास से 
हमेशा पाया नारियल सा 
अंदर से कोमल भाव के 
पिता की आँखों से ही 
डरते थे यदि होते गलत 
हर समस्या का हल थे जो 
उनकी सीख बनेंगी अब हर हल  
पिता की भावनाएँ सदा 
रहती हैं अव्यक्त पर 
पिता की परवाह अक्सर 
प्यार और डाँट में आती स्पष्ट  
पिता माँ बच्चों के लिए 
हमेशा एक सुरक्षा कवच 
पिता का हाथ सर पे रहा  
तो हर श्रम सार्थक हुआ   
आपका प्रतिरूप जिसने हमें 
जग में पाल-पोस बड़ा किया
हे परमपिता,हमारे पिता को 
निज चरणों में तू स्थान दे 
हम सभी उनकी आत्मा को 
पूर्ण मान और सम्मान दें ।

लक्ष्य

कामयाबी के सफर में बहुत ज़रूरी धूप 
ज्यों धूप ढलने लगे पाँव थकें अनुरूप 
मंज़िल के भ्रम में रुकने लगते हैं पाँव 
बीच सफर में ठहरते समझ लक्ष्य का रूप