आग

तुम्हे छूकर देखना है......
 
ये ज़िद छोड़ नासमझ
 
     आग हूँ मैं 

क्या जलकर देखना है