173.दोहा

*निज हित से ऊपर तकेँ ,ऐसे कम हैं लोग* 
*जो ऐसी कोशिश करें ,कहें लगा है रोग*  
           ✍️सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️