19.दोहा

काव्य सृजन होगा तभी, जब भावों का ज्वार 
कला तभी फूले फले, नित होता विस्तार