217.दोहा

*छुप-छुप दुनिया की नज़र, ग़लत करें आचार*       
 *पकड़ो तो वो चोर हैं, वरना साहूकार*        
                  ✍️सीमा कौशिक ‘मुक्त’✍️