224.दोहा

*पिया गए परदेस मैं, हर दिन तकती राह*। 
*दिया नहीं सन्देश भी, ये कैसी परवाह*।। 
              ✍️ सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️