236.दोहा

*मित्र वही अच्छे लगें, सही दिखाते राह*
*इक-दूजे का साथ दें, रखें न कोई चाह* 
      ✍️सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️