27.दोहा

मन आकर्षित वो करे, चंचल जिसके नैन 
अधरों पर बंसी सजी, कृष्ण बिना कब चैन