40.दोहा

दिल-दिमाग में जुस्तजू , रहती चलायमान 
कौन सी राह मैं चुनूँ, पूरे हों अरमान