5 दोहा

मेरी माँ ने था कहा,हो कोई भी भूल  
भुगते लड़की ही सदा,चुभें उसी को शूल