148.दोहा

मस्ती भी अच्छी लगे, भाता तब आराम। 
यही उचित है कीजिए, पूर्ण समय से काम।।
  ️       ✍️सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️