176.दोहा

*गया वक़्त लौटे नहीं, कर लो जितना शोर *           
*नैनों से बरसे घटा , जितनी भी घनघोर*
         ✍️ सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️