270.दोहा

 कोई भी बंधन रहे , देता पीर अपार 
प्रेमबंधन सदैव ही , पीड़ा का अंबार 
        ✍️सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️