53.दोहा

*विरह अग्नि मन में जले, काटे कटे न रात*  
*पिया याद आते रहे, सँग आँसू बरसात*  
             ️✍️सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️