54.दोहा

*बच्चे जब माँ-बाप का, ऊँचा करते मान* 
*गर्वित हर्षित वो तभी, चलते सीना तान* 
             ️✍️सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️