बेजुबान

बेजुबान हो गए हैं हम, 
 शायद हसरतें दम तोड़ जाएँ। 
 कुछ बोले तो मर जाएगा रहा सहा रिश्ता,  
 न बोले तो धड़कनें न रुक जाएँ। 

नासमझ

चाहे मान खुदा तू खुद को मगर ,
 तू औरों को इंसान समझ ।  
 जो पूजें तुझे शामों सहर, 
 उन भक्तों का तू मान समझ। 
 तू माना है दीया लड़े अंधेरों से,
 पर बाती की औकात समझ ।  
 कोई मांग रहा गर दर पे तेरे, 
 तुझे माना है धनवान समझ। 
 माना है बहुत तू ताकतवर ,
 तेरी ताकत वो है नादान समझ ।  
 नहीं अकड़ शोभती है तुझपर, 
 हैं भक्त तो है भगवान समझ ।  
 पुण्यों का फल तूने पा ही लिया ,
 इन पापों का तू भार समझ। 
 हर तरफ है हाहाकार अभी,
 इसे आहों का तूफ़ान समझ। 
 तू आसमान है मैं जर्रा हूँ  ,
 इसे जर्रे की ललकार समझ।

खुद से बेहतर

हम तो पहले ही से आपको ,
 खुद से बेहतर समझते हैं।
 बड़प्पन कम न करो अपना,
 हमें कमतर बताने में।।
 दीवाना है दिल मेरा,
 अपना समझता है आपको 
 अपनापन यूँ कम न करो,
  हमारी कमियां गिनाने में।।
 गुजर जाएगा बुरा वक़्त भी, 
 खुश रहो न तुम ।  
 तुम्हारा उतरा हुआ चेहरा,
 लगा है दिन गिनाने में।।
 आसान है शब्दों से,
 किसी को चोट पहुंचना। 
 गहरी चोट है कितनी,
 समय लगेगा समझ पाने में।।
 अवधारणा बनाना दुश्मनी निभाना, 
 हमारा काम हो नहीं सकत। 
 तुम ही भूल बैठे सब ,
 अहम् को सजाने में।।