शुभकामनाएं

महकें चहकें चमकें झूमें, जीवन की हर दीवाली आप 
दसों दिशाओं चारोँ ओर से, बरसे खुशियों की सौगात ! 
मुस्काएँ नयनों के  दीप, हँसी मुस्कानें हो चारोँ ओर  
इस जीवन में कभी न सूखे, प्रेम शांति की बरसात !
सबका हरदिन मंगलकारी, हो रहे सदा मन में आनंद  
विनती यही प्रभु कृपा बरसे, हम पर सदा यूँ ही दिनरात ! 
               ✍️ सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️ 

धन तेरस,छोटी दिवाली,बड़ी दिवाली ,गोवेर्धन पूजा 
और भैया दूज की,आप सभी को सपरिवार शुभ कामनाएं !

गुमसुम

सुनो कुछ नहीं चाहिए मुझे तुमसे 
बस अपनी अपेक्षाओं में मत लादो तुम 
जीवन जो रह गया बाकी 
सहजता और सरलता से जीने दो तुम
 
तुम्हारी उम्मीदों पे खरे उतरें 
बहुत लोग हैं ऐसे 
अपनी उम्मीदों के स्तर पे 
हमे मत लाओ तुम

जीवन भर ढेर सी इच्छाएं अपनी 
और ढेर से सपने और उम्मीदें अपनों की 
कुछ पूरी हुई और कुछ नहीं भी 
परेशान ही रहे हम तुम 

तुम भी भरपूर जियो 
और जियें हम भी थोड़ा खुलके  
व्यर्थ है हर पाना खोना 
अगर बैठे हों दोनों गुमसुम