216.दोहा

छोड़ो भी अब छेड़ना, जुड़े ह्रदय के तार 
प्रीत देत दस्तक प्रिये, खोलो मन के द्वार
              ✍️ सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️

ख़ंज़र

पेशे खिदमत है ये ग़ज़ल आपके लिए 
मीटर -२२१२  २२१२ २२ 
             " ख़ंज़र "
भूला न दिल, बिसरे न वो मंज़र  
जो पीठ पर घोंपा मिरे ख़ंज़र ।।    
मासूम दिल ऐसे हुआ खाली  
जैसे ज़मीं होती रही बंजर ।।       

आया ज़बाँ पर ज़िक्र तिरा क्यों कर  
मौसम समय जब ख़ुद न राह-गुजर।। 
  
गुज़रा वक़्त    चाही महरबानी
मज़बूत हम हैं मत कहो  जर्जर।।  

कैसे खिलेंगे गुल गुलिस्ताँ में 
माली लगाता हो जब बदनज़र।। 

हैं 'मुक्त' को न सहन अजी मसले 
वो है अड़िग ज्यों हो मज़बूत शजर।। 
              ✍️ सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️

इन्तज़ाम

क्या कहूँ इस दर्द का रब सही इन्तज़ाम कर,
दर्द ख़त्म कर या फिर महसूसियत तमाम कर 
ये  दीवाना ही रहा दिल माने न बात जी    
न दिल की हुकूमत हो और न एहतराम कर 
        ✍️सीमा कौशिक ‘मुक्त’ ✍️

210-215.दोहा

💐💐🌹🌹आज सावन शिव रात्रि के महापर्व पर कुछ दोहे, मेरे इष्टदेव और गुरु भोले शंकर,महादेव शिव, महाकाल को समर्पित🙏🏻🙏🏻 🌹🌹💐💐 आपको और आपके परिवार को सावन शिव रात्रि की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएँ 🌹🌹🙏🏻🙏🏻 
२१०/
*शिव के रूप अनेक हैं, आदि अनंत अकाल*।
*आकर्षक लगते मगर, उज्जैन महाकाल*।। 
२११/
*महाकाल नगरी भली, रम्य पुरी उज्जैन*।  
*हो शरण महाकाल की, पूर्ण शान्ति व चैन*।।  
 २१२/   
*शिव की कृपा सदा रहे, दुःख की रहे न मोंच*। 
 *महाकाल के जाप से ,लगे न कभी खरोंच*।।  
२१३/
*शिव-स्मरण हर श्वास हो, हर धड़कन में याद*। 
*महाकाल दिल में बसो, जीवन हो आबाद*।। 
२१४/
*हरें शिव आधि-व्याधि सब, करते दुःख का अंत*। 
*महाकाल आशीष से, शान्ति रहती अनंत*।। 
२१५/
*शिव का सावन मास से, है  निर्मल  सम्बन्ध*  
*मेल हुआ शिव शक्ति का, हुआ प्रेम अनुबंध* 
              ✍️ सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️