ज़ुदा

ना कर किसी को ज़ुदा उनके अपनों से 
या फिर उनको भी उनसे ज़ुदा करदे 
नहीं सहन होता बिछोह का दर्द ए रब 
न हो यकीं तो कुछ पल खुद को इंसान कर दे

Leave a Reply