समझ

मेरा लिखा पढ़ेगा कौन 
हर एक शब्द हैं ज़ज़्बात ,समझेगा कौन 
वो समझे ना समझे शब्द मेरे 
शब्द क्या मैं तो समझती हूँ उसका मौन  

Leave a Reply