गैर

कोई हमे आज भी 
मिटाने की सनक रखता है 
चेहरा तो है अपनों का मगर 
गैरों सी तबीयत रखता है 

One thought on “गैर

Leave a Reply