ज़रूरी नही

  ज़रूरी नहीं जीवन में
 हमेशा प्यार मिले
 समझे ज़ज़्बात कोई 
साथ का अहसास मिले 
ज़रूरी नहीं ज़िद करना 
बेवजह जिरह करना 
आशाएं पूरी हो तेरी 
हर बार जीत मिले 
अगर तुम रूठो तो
कोई मनाये भी 
बदले में प्यार के 
प्यार ही जवाब मिले 
ज़रूरी नहीं अपने
 तुम्हे अपनाएँ भी 
सुने तेरे दिल की और 
अपनी सुनाएँ भी 
सुर में सुर मिलाये जो 
प्यार के गीत गाये जो
सच्चा हमसफ़र या 
मनचाहा मनमीत मिले 
मगर जीने के लिए 
गले ज़िन्दगी को लगा 
है जो पास तेरे
जश्न उसका तू मना
ज़रूरी नहीं तू करे 
हर दम शिकवे गिले  
ज़रूरी नही

Leave a Reply