कहानी

सब कुछ है पास तेरे........फिर भी बेचैनी क्यों है 
मुस्कान लबों पे .........निग़ाहों में वीरानी क्यों है 
बिना समझे-बूझे.........ढोये अहसासों की लाशें 
ग़ज़ब बात ! दिल गढ़ता नयी रोज़ कहानी क्यों है 
       ✍️ सीमा कौशिक 'मुक्त' ✍️ 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s